Aye mere vatan ke logon
Tum khoob laga lo naara
Ye shubh din hai ham sab ka
Lahara lo tiranga pyaara
Par mat bhoolo seema par
Veeron ne hai praan ganvaaye
Kuch yaad unhein bhi kar lo
Kuch yaad unhein bhi kar lo
Jo laut ke ghar na aaye
Jo laut ke ghar na aaye

Aye mere vatan ke logon
Zara aankh mein bhar lo paani
Jo shaheed hue hain unki
Zara yaad karo qurbaani

Aye mere vatan ke logon
Zara aankh mein bhar lo paani
Jo shahid hue hein unki
Zaraa yaad karo qurbaani

Tum bhool na jaao unko
Is liye suno hein unki
Jo shahid hue hein unki
Zaraa yaad karo qurbaani

Jab ghayal hua himaalay
Khatre mein padi aazadi
Jab tak thi saans lade vo
Jab tak thi saans lade vo
Phir apni laash bichha di

Sangeen pe dhar kar maatha
So gaye amar balidaani
Jo shahid hue hein unki
Zaraa yaad karo qurbaani

Jab desh mein thi diwali
Vo khel rahe the holi
Jab ham baithe the gharon mein
Jab ham baithe the gharon mein
Vo jhel rahe the goli
The dhanya javaan vo aapane
Thi dhanya vo unaki javaani
Jo shahid hue hein unki
Zaraa yaad karo qurbaani

Koi sikh koi jaat maraatha
Koi sikh koi jaat maraatha
Koi gurakha koi madaraasi
Koi gurakha koi madaraasi
Sarahad par maranevaala
Sarahad par maranevaala
Har veer tha bhaaratavaasi

Jo khoon gira parvat par
Vo khoon tha hindustaani
Jo shahid hue hein unki
Zaraa yaad karo qurbaani

Thi khoon se lath-path kaaya
Phir bhi bandook uthaake
Das-das ko ek ne maara
Phir gir gaye hosh ganva ke
Jab ant-samay aaya to
Jab ant-samay aaya to
Kah gaye ke ab marate hain
Jab ant-samay aaya to
Kah gaye ke ab marate hain
Khush rahana desh ke pyaaron
Khush rahana desh ke pyaaron
Ab ham to safar karate hain
Ab ham to safar karate hain

Kya log the vo deewane
Kya log the vo abhimaani
Jo shahid hue hein unki
Zaraa yaad karo qurbaani
Tum bhool na jaao unko
Is liye kahi ye kahaani
Jo shahid hue hein unki
Zaraa yaad karo qurbaani
Jay hind jay hind ki sena
Jay hind jay hind ki sena
Jay hind, jay hind, jay hind.

ऐ मेरे वतन के लोगों
तुम खूब लगा लो नारा
ये शुभ दिन है हम सब का
लहरा लो तिरंगा प्यारा
पर मत भूलो सीमा पर
वीरों ने है प्राण गँवाए
कुछ याद उन्हें भी कर लो
कुछ याद उन्हें भी कर लो
जो लौट के घर ना आये
जो लौट के घर ना आये

ऐ मेरे वतन के लोगों
ज़रा आँख में भर लो पानी
जो शहीद हुए हैं उनकी
ज़रा याद करो क़ुरबानी

ऐ मेरे वतन के लोगों
ज़रा आँख में भर लो पानी
जो शहीद हुए हैं उनकी
ज़रा याद करो क़ुरबानी

तुम भूल ना जाओ उनको
इसलिए सुनो ये कहानी
जो शहीद हुए हैं उनकी
ज़रा याद करो क़ुरबानी

जब घायल हुआ हिमालय
खतरे में पड़ी आज़ादी
जब तक थी साँस लड़े वो
जब तक थी साँस लड़े वो
फिर अपनी लाश बिछा दी

संगीन पे धर कर माथा
सो गये अमर बलिदानी
जो शहीद हुए हैं उनकी
ज़रा याद करो क़ुरबानी

जब देश में थी दीवाली
वो खेल रहे थे होली
जब हम बैठे थे घरों में
जब हम बैठे थे घरों में
वो झेल रहे थे गोली
थे धन्य जवान वो अपने
थी धन्य वो उनकी जवानी
जो शहीद हुए हैं उनकी
ज़रा याद करो क़ुरबानी

कोई सिख कोई जाट मराठा
कोई सिख कोई जाट मराठा
कोई गुरखा कोई मदरासी
कोई गुरखा कोई मदरासी
सरहद पर मरनेवाला
सरहद पर मरनेवाला
हर वीर था भारतवासी

जो खून गिरा पर्वत पर
वो खून था हिंदुस्तानी
जो शहीद हुए हैं उनकी
ज़रा याद करो क़ुरबानी

थी खून से लथ-पथ काया
फिर भी बन्दूक उठाके
दस-दस को एक ने मारा
फिर गिर गये होश गँवा के
जब अन्त-समय आया तो
जब अन्त-समय आया तो
कह गए के अब मरते हैं
जब अन्त-समय आया तो
कह गए के अब मरते हैं
खुश रहना देश के प्यारों
खुश रहना देश के प्यारों
अब हम तो सफ़र करते हैं
अब हम तो सफ़र करते हैं

क्या लोग थे वो दीवाने
क्या लोग थे वो अभिमानी
जो शहीद हुए हैं उनकी
ज़रा याद करो क़ुरबानी
तुम भूल न जाओ उनको
इस लिये कही ये कहानी
जो शहीद हुए हैं उनकी
ज़रा याद करो क़ुरबानी
जय हिन्द जय हिन्द की सेना
जय हिन्द जय हिन्द की सेना
जय हिन्द जय हिन्द जय हिन्द.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here