Shukar Tera Song
Shukar Tera Song Lyrics

Kis Tarah Se Shukra Tera Ada Karun Main tera song lyrics from movie Samrat & Co. This song music & lyrics by Mithoon. Sungby best singer Arijit Singh & Chinmayi Sripada.

Movie Details

Movie: Samrat & Co

Singer/Singers: Arijit Singh & Chinmayi Sripada

Music Director: Mithoon

Lyricist: Mithoon

Actors/Actresses: Rajeev Khandelwal and Madalsa Sharma

Year/Decade: 2014

Music Label: T-Series

Song Lyrics in English Text

Kis tarah se shukar tera
Ab ada karu main
Iss mohabbat ka harjana
Kis tarah bharoon main
Khaamosh reh kar bhi keh gaye
Dariya sa dil tak beh gaye
Tum par ho raha hai
Poora aitbaar
Tum hi ho hifaazat meri suno
Ye kaha hai rooh ne
Kis tarah se shukr tera
Ab ada karu main

Ishq ka bas naam liya
Maine samjha nahi tha isse..
Tune sikhaya ki ye hai ibaadat
Rooh ki bhaasha hai yeh
Teri badolat
Paayi woh daulat
Jo mili na mujhko kahin
Jazbaat hadd se badhne lage
Dene lage sadaa tujhe
Har pal hai zaroori ab tera deedar
Kis tarah se shukr tera ab ada karu main
Iss mohabbat ka harjana
Kis tarah bharu main

Aisa kabhi dekha nahi
Na kabhi bhi kahin suna
Dene wala sab dekar bhi keh raha hai shukriya
Tune hi toh samjha mujhe
Jo na keh saka main, suna tumhe
Ehsaan ye tera na bhalunga sadaa
Kis tarah se shukr tera
Ab ada karu main
Iss mohabbat ka harjana
Kis tarah bharu main

Song Lyrics in Hindi Font

किस तरह से शुकर
तेरा अब ऐडा करू मैं
किस तरह से शुकर
तेरा अब ऐडा करू मैं
किस तरह से शुकर
तेरा अब ऐडा करू मैं
इस मोहब्बत का हर्जाना
किस तरह भरु मैं
खामोश रह
कर भी कह गए
दरिया सा दिल तक बह गए
तुम पर हो रहा
है पूरा एतबार
तुम ही हो हिफ़ाज़त मेरी सुनो
ये कहा है रूह ने
किस तरह से शुक्र
तेरा अब ऐडा करू मैं

इश्क़ का बस नाम लिया
मैंने समझा नहीं था इसे
तूने सिखाया की ये है इबादत
रूह की भाषा है यह
तेरी बदौलत पायी वह दौलत
जो मिली न मुझको कहीं
जज़्बात हद्द से बढ़ने लगे
देने लगे सदा तुझे
हर पल है ज़रूरी
अब तेरा दीदार
किस तरह से शुक्र तेरा
अब ऐडा करू मैं
इस मोहब्बत का हर्जाना
किस तरह भरु मैं

ऐसा कभी देखा नहीं
न कभी भी कहीं सुना
देने वाला सब देकर
भी कह रहा है शुक्रिया
तूने ही तोह समझा मुझे
जो न कह सका
मैं सुना तुम्हे
एहसान ये तेरा न
भालूँगा सदा
किस तरह से शुक्र तेरा
अब ऐडा करू मैं
इस मोहब्बत का हर्जाना
किस तरह भरु मैं.

Note: For any mistake in Lyrics kindly let us know !!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here